शहर के लिए गर्व का विषय, विप्र मंच की महिला मोर्चा की हरियाणा की अध्यक्षा फरीदाबाद से

फरीदाबाद हरियाणा


फरीदाबाद:16 सितंबर, प्रदेश की महिलाएं समय समय पर हरियाणा वासियों का गौरव बढ़ाती रही हैंl इन्हीं नामों में एक नाम जुड़ गया है विजयलक्ष्मी शर्मा काl विजयलक्ष्मी शर्मा को राष्ट्रीय विप्र एकता मंच महिला मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष मनोनीत किया गया हैl इस अवसर पर मंच के जिलाध्यक्ष संजय चतुर्वेदी ने उनसे मिलकर अपनी शुभकामनायें दींl विजयलक्ष्मी ने बताया कि वे काफी समय से सामाजिक कार्यों से जुडी रही हैं और एक शिक्षाविद होने के नाते उनका प्रयास रहा है कि समाज का कोई भी वर्ग अशिक्षित ना रहेl राष्ट्रीय विप्र एकता मंच से भी वे कुछ समय से जुडी हुईं हैं और उन्होंने पाया कि यह मंच राजनीतिक ना होकर ब्राहमणों के अधिकारों के लिए कार्य कर रहा हैl उन्होंने कहा कि जहाँ सभी जातियों के अपने संगठन हैं, ब्राह्मणों के भी कुछ संगठन कार्य कर रहें हैंl राष्ट्रीय विप्र एकता मंच से उन्हें जोड़ने के लिए उन्होंने संजय चतुर्वेदी का विशेष धन्यवाद दियाl उन्होंने राष्ट्रीय सचिव शिव उपाध्याय जी को विजयलक्ष्मी की क़ाबलियत पर विश्वास करने के लिए विशेष रूप से धन्यवाद दियाl उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष मित्रेश चतुर्वेदी से अभी उनकी भेंट नहीं हुई है लेकिन उनके नेतृत्व से वे बहुत प्रभावित हैंl
संजय चतुर्वेदी, जिलाअध्यक्ष ने बताया कि यह संगठन 1998 से कार्यरत हैl पहले यह कुछ सीमित क्षेत्र में कार्य कर रहा था परन्तु जैसे जैसे सदस्य बड़ते जा रहे हैं संगठन अब पूरी तरह से राष्ट्रीय स्तर पर कार्यरत हैl राष्ट्रीय अध्यक्ष मित्रेश चतुर्वेदी जी 2019 से संगठन की कमान संभाले हुए हैं और वे लगातार देश भर में संगठन के सदस्यों के साथ मिलते रहते हैं और जहाँ भी आवश्यक हूँ ज़रूरतमंदों की मदद के लिए संगठन के सदस्यों के माध्यम से भी आवश्यक मदद पहुंचाते हैंl
चतुर्वेदी ने बताया कि फरीदाबाद जिले की कार्यकारिणी आने वाले कुछ दिनों में निश्चित हो जाएगीl इसी प्रकार उन्होंने बताया कि राज्य स्तर पर विजयलक्ष्मी शर्मा भी आवश्यक औपचारिकता पूरी करते हुए और सीनियर्स की अनुमति से अपनी कार्यकारिणी का गठन करेंगीl
चतुर्वेदी ने बताया कि सनातन के मानने वालों को किस प्रकार हर कदम पर धर्म का अनुसरण करना है इसका एक उदाहरण है कि उन्होंने प्रदेश अध्यक्षा महिला मोर्चा का सम्मान तुलसी के पौधे दारा किया, ना कि फूलों के गुलदस्ते से क्योंकि तुलसी सभी के घर में पूजी जाती हैं और सभी के लिए आराध्य हैं l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *