इंश्योरेंस पॉलिसी के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़

फरीदाबाद: 26 मार्च, डॉ अर्पित जैन ने जानकारी देते हुए बताया कि साइबर क्राइम के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए साइबर थाना की पुलिस टीम ने 5 साइबर अपराधियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। गिरफ्तार किए गए आरोपियों में शुभम, दीपक, राज प्रताप, संजीव और अनुराग का नाम शामिल है। आरोपियों को 19 मार्च 2021 को गिरफ्तार करके पुलिस रिमांड पर लिया गया जिसमें आरोपियों ने उनके द्वारा की गई विभिन्न वारदातें कबूली जिसमें उन्होंने लोगों के साथ करोड़ों रुपए की ठगी की है। आरोपियों के कब्जे से तीन मोबाइल फोन व 9लाख 60हजार रुपए बरामद किए गए हैं और साथ ही आरोपियों के खाते के रखे 2 लाख 45 हजार रुपए फ्रीज़ कर दिए गए हैं। आरोपियों के खिलाफ दिनांक 18 मार्च 2021 को साइबर थाना में भारतीय दंड संहिता की धारा 406, 419, 420 के तहत मुकदमा दर्ज है। आरोपी बहुत ही शातिराना तरीके से भोले भाले लोगों को अपने चंगुल में फंसाकर उनसे पैसे एंठते थे।

आरोपियों ने साइबर तरीके से धोखाधड़ी करने के लिए एक पूरा गिरोह बनाया हुआ था और फर्जी सिम कार्ड के साथ-साथ फर्जी बैंक अकाउंट बनवा रखे थे। जिन पॉलिसी धारकों की इंश्योरेंस पॉलिसी पूरी हो जाती थी या पूरी होने के कगार पर होती थी उन्हें आरोपियों द्वारा फोन किया जाता था और उन्हें उनकी इंश्योरेंस पॉलिसी को सरेंडर करवाकर उनकी पॉलिसी के पैसों के साथ-साथ एक्स्ट्रा बेनिफिट दिलवाने का लालच दिया जाता था। एक्स्ट्रा बेनिफिट्स दिलवाने के नाम पर आरोपी पॉलिसी धारकों से पैसे अपने द्वारा बनवाए गए फर्जी बैंक खाते में ट्रांसफर करवाने की बात कहते थे। पॉलिसी धारक आरोपियों द्वारा दिए गए लालच में आ जाते थे और अपने द्वारा कमाई गई धनराशि आरोपियों द्वारा बताए गए फर्जी बैंक खातों में ट्रांसफर कर देते थे। पैसा मिलते ही आरोपी अपना नंबर बंद करके सारी धनराशि हड़प लेते थे। इसी प्रकार फर्जी कॉल सेंटर चलाकर आरोपियों ने बहुत से लोगों के साथ धोखाधड़ी की। फरीदाबाद के सेक्टर 29 के रहने वाले नेत्रपाल सिंह भी इन आरोपियों के शिकार हुए और उनके साथ 14 लाख 40 हजार 710 रुपए की धोखाधड़ी हुई। पीड़ित नेत्रपाल ने उनके साथ हुई धोखाधड़ी की शिकायत दिनांक 18 मार्च 2021 को साइबर थाना फरीदाबाद में दी जिस आधार पर आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया।

पुलिस आयुक्त ओपी सिंह ने मामले में तुरंत संज्ञान लेते हुए आरोपियों की धरपकड़ के आदेश दिए। पुलिस उपायुक्त व सहायक पुलिस आयुक्त क्राइम के दिशा-निर्देशों पर कार्य करते हुए साइबर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर बसंत की अगुवाई में आरोपियों की धरपकड़ के लिए टीम का गठन किया गया जिसमें उप निरीक्षक राजेश कुमार, सहायक उप निरीक्षक नरेंद्र, बाबूराम, प्रमोद, महिला स.उ.नि. गीता, हवलदार दिनेश, नरेश, लोकेश, वीरपाल, कृष्ण, सिपाही बिजेंदर, अंशुल कुमार, अमित और कर्मवीर शामिल थे। साइबर थाना की तकनीक और कड़ी मेहनत रंग लाई और आरोपियों को दिल्ली एनसीआर क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया गया। इन आरोपियों का एक अन्य साथी अभी फरार चल रहा है जिसकी पुलिस द्वारा तलाश की जा रही है।

आरोपी शुभम सिहं पुत्र अशोक व दीपक पुत्र शिव चरण दोनों गाजियाबाद के रहने वाले हैं। आरोपी राज प्रताप सिंह पुत्र राजेन्द्र व संजीव पुत्र ओमप्रकाश दोनों दिल्ली के रहने वाले हैं वहीं आरोपी अनुराग पुत्र मैथली सरण नोएडा का रहने वाला है। शिकायत करता नेत्रपाल ने डॉ अर्पित जैन से मिलकर फरीदाबाद पुलिस द्वारा किये गए सराहनीय कार्य के लिए ख़ुशी जाहिर करते हुए उनका धन्यवाद किया। सभी आरोपियों को आज अदालत में दोबारा पेश करके जेल भेज दिया गया है और इनके एक अन्य साथी को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

You cannot copy content of this page