एसजीएम् नगर सहित पूरे एनआईटी मेँ फैला है अवैध शराब माफियाओं का जाल

फरीदाबाद: ( पंकज अरोड़ा )22 जुलाई,  जिले की एसजीएम् नगर और एनआईटी में अवैध शराब की बिक्री लगातार जारी है जिससे लाइसेंसधारी शराब के ठेकों वालो को भारी नुकसान हो रहा है साथ ही सरकार को भी राजस्व का चूना लगाया जा रहा है,

आपको यहाँ बता दे कि फ़रीदाबाद की एनआईटी  के एक, दो, तीन, चार, पांच नंबर और एसजीएम् नगर मेँ अवैध शराब माफियाओ द्वारा स्कूटी से घर तक पहुंचाई जाती है एक शराब के ठेके चलाने वालों के सूत्रों ने बताया कि आजकल शराब माफियाओ ने शराब बेचने का स्टाइल बदल लिया है पहले गली के नुक्कड़ पर या स्लम बस्ती में कमरा लेकर शराब की पेटी रखकर बेचीं जाती थी परन्तु पुलिस प्रशासन द्वारा लगातार छापे मारने पर सारा माल जब्त कर लिया जाता था और उनको पकड़कर अदालत में पेश कर दिया जाता था, लेकिन यह लोग ज़मानत लेकर फ़िर से इस गोरखधंधे में लिप्त हो जाते थे जिससे शहर का युवा बर्बाद तो हो ही रहा है साथ में यह लोग शराब के नशे में चोरी और  महिलाओ के साथ छेड़छाड़ जैसी घटनाओ को अंजाम देने से भी नहीं चूकते, ठेके चलाने वालों के सूत्रों ने बताया कि ज्यादा पैसे कमाने के चक्कर में यह माफ़िया लोग कई बार बड़े पैमाने पर नकली शराब बेचने से भी गुरेज नहीं करते और इसी नकली शराब के कारण आदमी को अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है क्योकि नकली शराब बहुत ज़हरीली होती है और कई राज्यों से भी ज़हरीली शराब से मोत की खबरें आती रहती है और इसका सबसे ज्यादा नुकसान सरकार को राजस्व का होता है, सूत्रों ने आगे बताया कि इन माफियाओं ने अब शराब बेचने का तरीका बदल गया है यह लोग अब स्कूटी द्वारा शराब ग्राहक के घर तक या गली के किसी कोने पर उन तक पंहुचा देते है और तो और कुछ लोग ऐसे है जो शराब के ठेके से शराब की पेटी लेकर ठेके पर ही रखकर एक दो बोतल स्कूटी पर ले जाकर ग्राहक तक पंहुचा देते है और यह सब शराब के ठेकेदार की मिलीभगत से चलता है जिससे पुलिस को मालूम नहीं हो पता कि कोन कहां से अवैध शराब सप्लाई कर रहा है हालांकि पुलिस लगातार शहर में गश्त करती रहती है बावज़ूद शराब माफिया अपने मकसद में कामयाब हो जाते है
( नोट ) ; यह जानकारी हमें शराब के ठेके पर काम करने वालों के सूत्रों ने दी है इस ख़बर से किसी को कोई आपति हो तो इस नंबर पर संपर्क कर सकते है 09818926364

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like