अब फरीदाबाद में भी लीवर ट्रांसप्लांट की सुविधा उपलब्ध

पत्नी ने लीवर दान कर बचाई अपने पति की जान

फरीदाबाद के मैट्रो हॉस्पिटल में हुआ लीवर ट्रांसप्लांट

फरीदाबाद : 19 फरवरी, मैट्रो हॉस्पिटल फरीदाबाद का पहला अस्पताल है जहाँ वाराणसी के लीवर सिरोसीस मरीज का सफलतापूर्वक लीवर ट्रांसप्लांट किया गया। मैट्रो हॉस्पिटल फरीदाबाद में अत्याधुनिक लीवर समस्याओं के इलाज़ के साथ लीवर ट्रांसप्लांट की सुविधा भी उपलब्ध है। डॉ. अंकुर गर्ग जो मैट्रोे हॉस्पिटल फरीदाबाद में लीवर ट्रांसप्लांट एवं जी आई सर्जरी विभाग के अध्यक्ष हैं उन्होनें बताया कि वाराणसी उत्तर प्रदेश के निवासी श्रीमान राठौर एक वर्ष से लीवर सिरोसिस बिमारी से पीड़ित थे और दिल्ली के लगभग सभी बड़े अस्पतालों में अपनी जाँच करा चुके थे। डॉ अंकुर गर्ग से मिलने के बाद उन्होनें उनसे अपना इलाज कराना उचित समझा। मैट्रो हॉस्पिटल में जाँच के दौरान उन्हें बताया गया कि लीवर ट्रांस्प्लांट की आवश्यकता है । डॉ. अंकुर गर्ग एवं ट्रांस्प्लांट टीम ने मरीज एवं उनके परिजनों को अंगदान की सभी प्रक्रियाओं को समझाया जिसके बाद मरीज की पत्नी ने लीवर दान करने की इच्छा जतायी। सभी जाँचों के बाद उनका लीवर दान करने के लिए उचित पाया गया तथा मरीज का सफलता पूर्वक लीवर ट्रांस्प्लांट किया गया। मरीज अब पूरी तरह स्वस्थ है तथा उनका लीवर सही ढंग से काम कर रहा है। लीवर से ग्रसित मरीज एवं उनके परिजन सही समय पर सही फैसला ना लेने के कारण मरीज की जिन्दगी गवा देते हैं। श्री राठौर ने सही समय पर सही फैसला लिया जिसके कारण उनकी जान बचायी जा सकी और वह अब पूर्ण रूप से स्वस्थ हैं। डॉ. पुरषोत्तम लाल, पदम् भूषण, पदम् विभूषण और डॉ. बी.सी. रॉय नेशनल अवॉर्डी (चेयरमैन – मैट्रो ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स) ने बताया कि फरीदाबाद में लीवर की बिमारियों के इलाज़ की सही सुविधा न होने के कारण कई बार मरीज का या तो सही समय पर सही इलाज़ नहीं मिल पाता था जिससे उनकी जान जाने का खतरा बढ़ जाता था, या फिर शहर से बाहर जाकर महंगा इलाज़ करवा कर जान बचानी पड़ती थी। मैट्रो हॉस्पिटल पिछले 22 वर्षाे से फरीदाबाद और आस-पास के क्षेत्रा वासियों के लिए विश्वस्तरीय स्वास्थ सुविधा उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। अपनी इसी प्रतिबद्धता के चलते फरीदाबाद में ही, ना केवल देश के अनुभवी लीवर विषेशज्ञों को एकत्रित किया बल्कि लीवर सम्बन्धी छोटे से इलाज़ से लेकर, लीवर ट्रांसप्लांट जैसे जटिल व बड़े इलाज़ को भी उपलब्ध करवाने का जिम्मा उठाया। लीवर से ग्रसित मरीजों को सही समय पर सही ईलाज मिलने से मरीज की जिन्दगी केवल बचायी ही नहीं जा सकती बल्कि उनकी जिन्दगी भी पूर्ण रूप से परिवर्तित हो जाती है। फरीदाबाद के मैट्रो हॉस्पिटल में अब लीवर ट्रांस्प्लांट एवं लीवर से जुड़ी बिमारियों के लिए सारी सुविधायें उपलब्ध हैं। लीवर बिमारियों से ग्रसित मरीजों के लिए फरीदाबाद के बाहर जाने कि आवश्यकता नहीं है क्योंकि इनसें जुड़ी सारी बिमारियों का ईलाज मैट्रो हॉस्पिटल फरीदाबाद में उपलब्ध हैं।

डॉ. नीरज जैन – मेडिकल डायरेक्टर एवं डायरेक्टर इन्टरवेन्शनल कार्डियोलॉजी ने बताया कि मैट्रो हॉस्पिटल फरीदाबाद ने पिछले कई वर्षों में अपनी ओ पी डी में और कैम्प्स में पाया की लीवर से सम्बंधित रोगों से ग्रषित मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है और फरीदाबाद में सही इलाज़ की सुविधा ना होने पर मरीज देश के अन्य शहरों के अस्पतालों में इलाज़ कराने पर मजबूर हो रहे हैं। मैट्रो हॉस्पिटल ने शुरू से ही फरीदाबाद में सबसे आधुनिक इलाज और सबसे अनुभवी विशेषज्ञों की सुविधा उपलब्ध कराने पर जोर दिया है फिर वो चाहे दिल के रोग हो या अन्य रोग। हमें आज बहुत ही ख़ुशी और गर्व का अनुभव हो रहा है जब हम वही इलाज़ की सुविधा अब लीवर की बिमारियों से ग्रषित रोगियों को प्रदान करने में सक्षम बन पाए। मैट्रो हॉस्पिटल राठौर का शुक्रिया करता है जिन्होंने मैट्रो हॉस्पिटल और हमारी लीवर ट्रांसप्लांट टीम पर अपना भरोसा जताया और सर्जरी के 14 दिन बाद पूर्ण रूप से स्वस्थ होकर वो अपनी दिनचर्या में वापस लौट पाए।

समाचार एंव विज्ञापन देने के लिए 09818926364 पर संपर्क करें

मैट्रो अस्पताल की मीडिया प्रवक्ता सना तारीक ने बताया कि मैट्रो हॉस्पिटल फरीदाबाद का पहला अस्पताल है जहां पर लीवर ट्रांस्प्लांट कि सुविधा उपलब्ध है। लीवर तथा अन्य किसी भी रोग कि पुर्ण रूप से ईलाज की सुविधा मैट्रो अस्पताल में उपलब्ध है। मैट्रो हॉस्पिटल के चेयरमैन, पदम् भूषण, पदम् विभूषण और डॉ. बी.सी. रॉय नैशनल अवॉर्डी डॉ. पुरषोत्तम लाल का हमेशा से ये उद्देश्य रहा है कि हर मरीज को अच्छी से अच्छी सुविधा और अच्छा इलाज उपलब्ध कराया जाए तथा डॉ. पुरषोत्तम लाल के निर्देशों अनुसार हमारा हमेशा यही प्रयास रहता है कि किसी भी मरीज को इलाज के दौरान कोई भी परेशानी ना हो।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

You cannot copy content of this page