राम को मर्यादा पुरुषोत्तम एवं आदर्श पुरुष की परिभाषा के रूप में जाना जाता है: आचार्य वीरेंद्र कुमार

फरीदाबाद: 02 दिसंबर, आर्य समाज, एन एच, नंबर 4, में 49वें वार्षिक उत्सव समारोह के उपलक्ष्य में आर्य वैदिक सम्मेलन एकम् पार्क सैक्टर 21 डी में आयोजित हुआ जिसमें सहारनपुर से आये भजनोपदेशक मनोज राज आर्य के मधुर भजनों ने सब का मन मोह लिया।

आचार्य वीरेंद्र कुमार, ने कहा श्री राम को मर्यादा पुरुषोत्तम राम कहा जाता है। वह एक आदर्श पुरुष, भाई तथा राजा थे। राम पितृभक्त, धैर्यवान, साहसी, न्यायी, पराक्रमी, त्यागी तथा उदार थे। उनका चरित्र आज हमारे जीवन में अनुकरणीय है। संपूर्णता के लिए संस्कार जरूरी है। संस्कारवान परिवार जैसा कोई विद्यालय नहीं है।

विशिष्ट अतिथि अशोक नेहरा, महेंद्र शर्मा और मुख्य अतिथि बी के भारद्वाज ने कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम के संयोजक जयप्रकाश शर्मा ने उपस्थित आचार्य, मुख्य अतिथि व सब श्रद्धालुओं का स्वागत और आभार प्रकट किया। मंच संचालन योगेंद्र फोर ने किया और इसी प्रकार आर्य समाज के कार्यक्रमों के आयोजनों कर वेदों की तरफ लौटने का अवाहन किया। कर्मचंद शास्त्री ने कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए सैक्टर 21 वासियों का धन्यवाद किया।

कार्यक्रम में स्वदेश सत्यार्थी, नर्वदा शर्मा, शीला देवी, पुष्पा शर्मा, प्रोमिला अरोड़ा, रितु गोयल, माता यज्ञानंदा, सुदेश मनचन्दा, रमेश मनचन्दा, कुलभूषण सखूजा, कर्मचंद शास्त्री, वसु मित्र सत्यार्थी, विकास भाटिया, कुलदीप गोयल, जोगेन्द्र कुमार, अजय मलिक, महेंद्र सेठी तथा बड़ी संख्या में आर्य महिलाओं तथा आर्य जनों ने भाग लिया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

You cannot copy content of this page