स्वामी दयानंद सरस्वती ने सबसे पहले नारी सशक्तीकरण को लेकर अभियान चलाया

फरीदाबाद: 28 नवंबर, आर्य समाज, एन एच, नंबर 4, में 49वें वार्षिक उत्सव समारोह के उपलक्ष्य में आर्य महिला सम्मेलन में आचार्य श्रुति सेतिया तथा सहारनपुर से आये भजनोपदेशक मनोज राज आर्य के मधुर भजनों ने सब का मन मोह लिया।

आचार्य वीरेंद्र कुमार, ने कहा आर्य समाज के संस्थापक स्वामी दयानंद सरस्वती ने सबसे पहले नारी सशक्तीकरण को लेकर अभियान चलाया था। आर्य समाज ने बाल विवाह, सती प्रथा जैसी कुरीतियां बंद करवाई। विधवाओं को पुनर्विवाह का अधिकार प्रदान कर आर्य समाज ने नारी सशक्तिकरण में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया।

मुख्य अतिथि आशा पंडित ने कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रधाना, महिला समाज, स्वदेश सत्यार्थी ने की और समस्त कार्यकारिणी की तरफ से उपस्थित आचार्यों, मुख्य अतिथि व सब श्रद्धालुओं का स्वागत और आभार प्रकट किया। मंच संचालन श्रुति सेतिया, मंत्री, महिला समाज ने किया।

कार्यक्रम में विमला ग्रोवर, निर्मल भाटिया, नर्वदा शर्मा, शीला देवी, कुसुम चौहान, पुष्पा शर्मा, प्रोमिला अरोड़ा, रितु गोयल, शकुंतला भाटिया, प्रभा निझावन, रूकमणि टुटेजा, ऊषा चितकारा, प्रेम लता गुप्ता, माता यज्ञानंदा, शिव कुमार टुटेजा, योगेंद्र फोर, कुलभूषण सखूजा, कर्मचंद शास्त्री, वसु मित्र सत्यार्थी, विकास भाटिया, कुलदीप गोयल, नंदलाल कालरा तथा बड़ी संख्या में आर्य महिलाओं तथा आर्य जनों ने भाग लिया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

You cannot copy content of this page