महिलायें कमजोर नहीं परन्तु अपने आप में एक संपूर्ण शक्ति हैं

फरीदाबाद: 17 दिसंबर,  महर्षि दयानंद योगधाम, फरीदाबाद के तत्वाधान में तीन दिवसीय गायत्री महायज्ञ एवं वार्षिक उत्सव के दूसरे दिन महिला सत्संग का शुभारंभ हवन यज्ञ से हुआ तत्पश्चात भजनोपदेशक आचार्य प्रदीप शास्त्री द्वारा मधुर भजनों से सब का मन मोह लिया। आर्य केंद्रीय सभा, नगर निगम क्षेत्र, फरीदाबाद की मंत्री ऊषा चितकारा ने महिलाओं के परिवार और समाज में योगदान की महत्ता को बताया और कहा कि राष्ट्र निर्माण में मार्त शक्ति का बहुत योगदान है। नारी वह सनातन शक्ति है जो अनादि काल से उन सामाजिक दायित्वों का वहन करती आ रही हैं, जिन्हें पुरुषों का कंधा सम्भाल नहीं पाता।

कार्यक्रम की अध्यक्षा रचना अहूजा ने कहा इस देश में महिलाओं को देवी को ब्रह्मा स्वरूप माना है आज महिलायें कमजोर नहीं परन्तु अपने आप में एक संपूर्ण शक्ति है। हर महिला को जीवन में कठिन से कठिन मोड़ पर निर्भय और मजबूत बने रहना चाहिए। अगर आप मल्टी टैलेंटेड होंगी तो आपको जीवन में सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।

महर्षि दयानंद योगधाम की प्रधाना स्वदेश सत्यार्थी ने कहा कि महर्षि दयानन्द ने महिला शक्तिकरण और उत्थान में बहुत महत्वपूर्ण योगदान किया और कहा कि महिलाओं को प्रतिदिन योग करना चाहिए। नियमित योगाभ्यास हमारे समग्र स्वास्थ्य, शक्ति को बढ़ाता है और हमारे मन को शांत करने में मदद करता है।

पातंजल योगधाम हरिद्वार के अध्यक्ष स्वामी मेघानंद सरस्वती ने कार्यक्रम में उपस्थित सबका स्वागत किया और आर्शीवाद दिया। मंच संचालन प्रेम बहल ने किया।

कार्यक्रम में प्रतिभा यति, सुमन बत्तरा, संतोष मदान पुष्पा अहूजा, स्वामी यज्ञानंदा, संतोष विरमानी, हर्ष गुलाटी, योगाचार्य मंजु, महाशय कौशल मुनी, सुरेश गुलाटी, कुलभूषण सखूजा, कर्मचंद शास्त्री, गोल्डी महलोत्रा, वसु मित्र सत्यार्थी, जोगिंदर कुमार ने भाग लिया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

You cannot copy content of this page