ब्रेकथ्रू के ‘स्त्रीलिंक मेले’ में महिलाओं के लिए हिंसा मुक्त माहौल बनाने पर हुई चर्चा

फरीदाबाद: 10 अक्टूबर, महिला अधिकारों पर काम करने वाली संस्था ब्रेकथ्रू ने आज अपने ‘स्त्रीलिंक’ मेले की शुरुआत डबुआ के सामुदायिक भवन से की। इस मेले में लगे विभिन्न स्टालों के माध्यम से महिलाओं के साथ होने वाले लैंगिक भेदभाव,घरेलू हिंसा, सार्वजनिक स्थानों पर होने वाले यौन उत्पीड़न, कार्यस्थल पर होने वाली हिंसा, नौकरी पर रखने के नाम पर उनके साथ होने वाले उत्पीड़न जैसे मुद्दे को संबोधित करते हुए लोगों से उसमें दखल देने की अपील की गई। इसके साथ ही इन मुद्दों पर नुक्कड़ नाटक, लघु फिल्मों व खेल के माध्यम से भी समुदाय के साथ चर्चा की गई


डबुआ में पहले ‘स्त्रीलिकं’ मेले की शुरुआत के अवसर पर ब्रेकथ्रू की स्टेट लीड (दिल्ली एनसीआर) प्रियंका सिन्हा ने कहा कि ब्रेकथ्रू लंबे समय से महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा को समाप्त करने के लिए काम कर रहा है, इसी कड़ी में कपड़ा फैक्ट्रियों में काम करने वाली महिलाओं को ध्यान में रखते हुए हमने यह कार्यक्रम ‘स्त्रीलिंक’ शुरू किया है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य उन महिलाओं के जीवन से किसी भी तरह की हिंसा को समाप्त करके उनके जीवन को बेहतर बनाना है। क्योंकि उनके साथ होने वाली हिंसा चाहे वो घर पर हो बाहर उनके जीवन और काम पर उसका गहरा असर डालती है। वह घर,बाहर, रास्तों और कार्यस्थलों पर,कहीं भी अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं करती हैं। अब कामकाजी महिलाओं के प्रति सभी को अपनी सोच बदलने की जरूरत है, उनके भरोसे को बढ़ाने और उनके काम को सम्मान देने के लिए समाज को भी आगे बढ़कर उनका साथ देना होगा। उन्होंने कहा कि हमारा यह प्रोग्राम यहां एक साल तक चलेगा इस दौरान हम विभिन्न एक्टिविटी के माध्यम से हिंसा मुक्त माहौल बनाने पर काम करते रहेगें।

इसके लिए जहां एक तरफ स्त्रीलिंक मेला, विडियो वैन, नुक्कड़ नाटक जैसी एक्टिविटी होती रहेगी वहीं हमने युवाओं के कई ग्रुप भी बनाए है जो समुदाय में नियमित रूप से जाकर उन्हें इस मुद्दे पर जागरूक करेगा।
मुख्य अतिथि एस.एच.ओ, एनआईटी, महिला थाना, माया ने कहा कि महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा पर पुरूषों से भी बात करने की जरूरत है,क्योंकि दोनों एक-दूसरे के पूरक है। बराबरी वाला समाज बनाने के लिए हमें एक-दूसरे के अधिकारों का भी सम्मान करना होगा। हिंसा के खिलाफ चुप मत बैठिए तत्काल आगे बढ़कर दख़ल दें और आवाज उठाएं। उन्होंने कहा कि महिला थानों के माध्यम से भी हम महिलाओं को हिंसा के मुद्दे पर आवाज उठाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं।जहां पर हमारा प्रयास रहता है कि महिलाओं की बातों को बिना जज किए संवेदनशीलता के साथ सुना जाए और उन्हें उचित समाधान दिया जाए।

समाचार एंव विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 09818926364
इस मौके पर नुक्कड़ नाटक वजूद का प्रस्तुतीकरण किया गया। जिसके माध्यम से महिलाओं के जिदंगी में दोहरे कार्यभार और घरेलू हिंसा,यौनिक हिंसा,मौखिक हिंसा के मुद्दे पर समुदाय के साथ संवाद स्थापित किया गया। नाटक की प्रस्तुति शिल्पी मारवाह के सुखमंच थिएटर के कलाकारों ने दी।
कार्यक्रम में ब्रेकथ्रू के सदस्यों के साथ ही काफी संख्या में स्थानीय युवा और गणमान्य लोग मौजूद रहे।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें-
विनीत त्रिपाठी,
सीनियर मैनेजर,
ब्रेकथ्रू,
संपर्क:9792267809, 8756000225

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like